Oct 102017
 
सदà¥�गà¥�रू नरेंदà¥�रनाथ महाराज लिखित”नवनाथ बोधमृत”ये गà¥�रंथ नाथपंथकी समृदà¥�ध और अखंड परंपरा आजके कालियà¥�गमेभी किस तरह कारà¥�यरत है इसका समगà¥�र विशà¥�लेषण है।ये गà¥�रंथ मराठी भाषामे होणे के कारण हिनà¥�दी भाषिक भविकोकेलीये समà¤�नेमे असà¥�विधा हो रही थी ऊन हिनà¥�दी भाषिक भविकोकेलीये इस गà¥�रंथ दà¥�वारा नवनाथ संपà¥�रदाय तथा नवनाथोकी विसà¥�तृत जाणकारी पà¥�रसारित करणे हेतू इस गà¥�रंथ को हिनà¥�दी मे अनà¥�वादित किया गया है।जैसे मराठी “नवनाथ बोधमृत”फेसबà¥�क गà¥�रà¥�पपर रोज पà¥�रसारित किया जाता है उसी तऱà¥�हा हिंदी बोधमृत काभि पà¥�रसारण सà¥�वतंतà¥�र हिनà¥�दी गà¥�रà¥�प बनाकर उसपे पà¥�रसारित कराने का महाराजजीका मानस है।जो हिनà¥�दी भाविक इस विषय मे रà¥�ची रखते है वो आपना सभासदतà¥�व इस गà¥�रà¥�पपर नोंदीत करे।


Source: प पु नरेंद्रनाथ महाराज – Wallflux Atom Feed